50 Years of Jewel Thief

50 Years of Jewel Thief

Prakash Khare

Prakash Khare

Retired Government Officer, Big Time Indian Cinema Fan, Old Film Encyclopedia
Prakash Khare

Latest posts by Prakash Khare (see all)

भारतीय फिल्म इतिहास में एक्शन , थ्रिलर फिल्मों की परंपरा बहुत पुरानी है जो संभवतः नवकेतन की फिल्म “बाज़ी “से प्रारम्भ होती है।इसके बाद इसी  कड़ी में सस्पेंस फिल्मों का भी आगमन हो गया जिसमें “बीस साल बाद “व ” गुमनाम”जैसी फिल्में अत्यधिक लोकप्रिय हुईं। लेकिन इस शैली कीफिल्मों में जो नाम सबसे ऊपर लिया जाता है वह है नवकेतन की फिल्म ‘ज्वेल थीफ “|यह फिल्म अल्फ्रेड हिचकॉक के किसी सस्पेंस जासूसी उपन्यास  की तरह एकदूसरी दुनिया में ही ले जाती  है। दर्शक फिल्म की कहानी की उलझनों में उलझा  हुआ मह्शूश करता है और फिल्म के अंत में एक आश्चर्यजनक प्रसन्नता के साथब|हर निकलता है।

फिल्म का नायक विनय पुलिस कमिश्नर का बेटा है जिसे जवाहरातों में दिलचस्पी व महारत  है और इसी महारत के दम पर वह शहर के सबसेबड़े जोहरी सेठ विशवंभर दास के यहां नौकरी करने लगता है। तभी फिल्म  कहानी में कुछ ऐसे  पात्र आते है जो उसको अमर के नाम से पहचानते हैं।इन्ही में एकफिल्म की नायिका शालिनी है जो विनय से यह कहती है की वह उसकी यानी की अमर की मंगेतर है। यह दुबिधा तो दूर हो जाती है पर  यह स्थापित होने लगता हैकी शहर में हुई जवाहरातों की चोरी के पीछे प्रिंस अमर का हाथ है जिसकी शक्ल हूबहू विनय से मिलती है। विनय पुलिस के साथ मिलकर इस प्रिंस अमर की गुत्थीको सुलझाने का प्रयास करता है। इसी क्रम में कहानी आगे बढ़ती है और अंत में यह प्रकट होता है की प्रिंस अमर नाम का तो कोई  व्यक्ति ही नहीं है  केवल पुलिसको भ्रमित करने के लिए यह चरित्र स्थापित किया गया है। असली ज्वेल थीफ तो अशोक कुमार है।




इस फिल्म की सफलता के तीन शिल्पकार हैं विजय आनंद ,देव आनंद व सचिन देव बर्मन। फिल्म की पटकथा ,निर्देशन व संपादन विजय आनंद ने किया है जो इसके पहले गाइड जैसी क्लासिक को निर्देशित कर चुके थे। लेकिन यह एक बिलकुल ही अलग शैली की फिल्म थी। पटकथा पूरे समय दर्शकों को बंधे रखती है और दर्शक पूरे समय आश्चर्य मिश्रित रोमांच का अनुभव करता है। संपादन अवाम निर्देशन में एक उलझी हुई कहानी की सभी गुत्थियों को सुलझाया गया है। फिल्म का संगीत फिल्म को और गति प्रदान करता है तथा फिल्म में गानों का प्रस्तुतीकरण लाजबाब है। देव आनंद इस फिल्म में अपने पूरे मेनेरिस्म व अदाओं के साथ प्रस्तुत है व नायक के पात्र को जीवंत बनाते हैं। इस फिल्म में उनकी वो स्टाइलिश ज्वेल थीफ कैप अत्यंत लोकप्रिय हुई थी।  यहां उनके लिए रोमांस हेतु दो नायिकाएं व फ़्लर्ट करने हेतु तीन और अभिनेत्रियां हैं जो फिल्म को और मनोरंजक बनाती हैं। फिल्म के क्लाइमेक्स पर फिल्माया गया गीत “होठों पे ऐसी बात में दबा के चली आयी “का फिल्मांकन अदभुद है। जहां इसका संगीत क्लाइमेक्स के रोमांच को प्रकट करता है वहीँ वैजयंतीमाला का नृत्य व कैमरा एंगल्स देखते ही बनते है।लेकिन फिल्म के गीत कहीं से भी कहानी की गति को नहीं रोकते बल्कि उसका हिस्सा प्रतीत होते हैं।  फिल्म आज की फिल्मों की तरह गति शील है और आज ५० साल बाद देखने के बाद भी आज की फिल्मों की तरह ही लगती है।

कुल मिलकर यह एक असामान्य हिंदी मूवी है जो जो हॉलीवुड की सस्पेंस फिल्मों की तरह पूरा  रोमांच व कोतुहल पैदा करती है तथा आम हिंदी फिल्मों की तरह मनोरंजन व रोमांस से भी परिपूर्ण है।

Breaking Conventions with Shammi Kapoor

Breaking Conventions with Shammi Kapoor

Aditya Mandloi

Aditya Mandloi

Gypsy soul. Unapologetic.
Flowing like a river
Being one with mountains.
Aditya Mandloi

Yaaahoooo!! This is the first word that comes into our minds when we hear Shammi Kapoor. For some, the name could play any other of his catchy and upbeat numbers. Born Shamsher Raj Kapoor on October 21, 1931, Shammi Kapoor was the second son of veteran theatre and film actor Prithviraj Kapoor. Today we celebrate his 85th birth anniversary breaking the conventions of Bollywood.

Self made man
Unlike the current generations, Shammi Kapoor was not launched as star kid by his father Prithviraj Kapoor. He struggled hard for several years to carve his niche in Bollywood. He started his career working as a junior artist in Prithvi theatre at a monthly wage of Rs.50.

A Male Starlet

junglee-1
He made his debut in Bollywood with the film “jeevan Jyoti” in 1953. Many of his earlier films failed to get a decent collection at box office. At that point of his professional life, Shammi called himself a ‘male starlet’. He made his presence felt with the superhit “Junglee” in 1961. His new image took ground and his subsequent films followed the genre.

Elvis Presley of India

hqdefault
In contrast to the present scenario, film actors in 60s and 70s did not perform live on stage with hundreds of supporting dancers in the background. Always ready to break the stereotypes, Shammi Kapoor would not hesitate to claim the dance floor his. He would never take the help of any choreographer and his spontaneous dance moves were often referred to as ‘gardan tod’ (neck breaking), for which he is loved the most. His natural dancing skills with the swept back hair and smooth jaw earned him the title ‘The Elvis Presley of India’.

The Tech-geek

heading_71427791
Shammi Kapoor was way ahead of everyone in terms of technology. He was one of the first celebrities to master the internet and went to become the Founder and Chairman of Internet Users Community of India(ICUI). He played a major role in setting up Ethical Hackers Association. Moreover, Kapoor himself maintained a website dedicated to the Kapoor family which derives its name from his first superhit http://www.junglee.org.in. The website tells us about the family line, filmography of various members, memorable moments of his life and more.

On the way to spirituality

aaqwo
Shammi Kapoor wasn’t typically inclined to any religion. He followed ‘Haidakhan Baba’ who preached “all religions are incorporated in the principle of truth, simplicity and love”. He explained that he came to restore Sanatana Dharma rather than Hindu Dharma(Hinduism). Sanatan Dharma can be understood as a primordial religion reflecting natural laws establishes at the beginning of creation. Babaji further explained “I do not belong to any particular religion, but respect all religions. I seek the elevation of mankind”.

Marrying a bigger star

4c6a2323741ef2e92e89fb51ddcfd94d
Shammi fell for actress Geeta Bali on the sets of ‘rangeen raatien’(1956). While she was an established actress, he was still struggling to gain stability in his career. She contributed a lot to the making of Shammi Kapoor. She gave him his confidence and personality. If you see the way he danced, it was Geeta Bali’s personality.

Never Insecure

shamii-in-bluffmaster-1
Shammi Kapoor was never reluctant to change. He who romanced Saira Banu in her debut ‘Junglee’ in 1961 and Bluff Master in 1963, did not shy away to play her father a decade later in Zameer in 1974. Furthermore, he played fifteen years younger Amitabh Bachchan’s father in Parvarish(1977).

With his boisterous charm and carefree attitude he’ll be inspiring us to get away with the orderly fashion because all boundaries are conventions waiting to be transcended.

keep shaking it like Shammi.

Rekha : Monalisa of Indian Film Industry

Rekha : Monalisa of Indian Film Industry

Shivangi Shrivastava

Shivangi Shrivastava

Bhopali studying in Bangalore. Crazy at heart! Guest Blogger at Scriptors.
Shivangi Shrivastava

A Woman, an actress, a superstar, a mysterious personality, a symbol of women empowerment. She is everything that an Indian man desire. She can easily be termed as the “Monalisa of Indian Cinema”. Everyone wants to know about her, her beauty, her magic, and her life. From a jolly girl in Khubsoorat to a courtesan dancer in Umrao Jaan, she has proved her versatility in with each performance. She is indeed a true gem of our Bollywood. Here are some of her movies which set a landmark.




KHOOBSURAT

rekha-khubsoorat

A typical Hrishikesh Mukherjee movie. Rekha portrays the role of Manju, who is a fun loving rebellious person and at the same time a very good-hearted and a talented girl. She makes the strict Nirmala (Dina Pathak) rethink about the importance of discipline in one’s life. And how one can still be disciplined enough even while having fun and enjoying life.




GHAR

gharAarti (Rekha) portrays a girl who is living happily with her husband and she cherishes every moment spent with her family. But being women is not that easy. An incident which leaves her whole faith shattered. She left with no trust for men anymore. The rest of the story depicts how difficult it becomes for the couple to be normal again.

SILSILA

amitabh-rekha-647_071516045857

A masterpiece by Yash Chopra. Silsila is a movie of all times, which has represented the love of ex- lovers, complicated relationships without being judgmental. The role of Rekha is a young, confident girl who falls in love with Amit. But due to certain circumstances they end up marrying different people and later the destiny makes them stand in front of each other brings another encounter. Chandini’s quench for Amit’s love led gets her into an extramarital affair with him. In one of the scenes with Shobha, Amit’s wife (Jaya Bachchan) she mentions that I’m not taking it away from him from you, we were in love. Destiny drifted us apart and now bring us closer. There is nothing on purpose. This portrayed that how sometimes love can be so strong that while knowing that you are wrong you continue.

 




UMRAO JAAN

maxresdefault

The story of a courtesan. A tale of a broken-hearted woman, whose life was just filled only with betrayal and tragedy. Her love was incomplete. The one who loved her was killed, her family didn’t accept her. Hers was not a happy ending story, but her story was to be told. And nobody could have done justice to the story role apart from Rekha. Woman, an actress, a superstar, a personality, a symbol of women empowerment. She is everything. She is Monalisa, everyone wants to know about her, her beauty, her magic, and her life. From a jolly girl in Khubsoorat to a courtesan dancer in Umrao Jaan she has proved her versatility in every movie. She is indeed a gem of our Bollywood. Here are some movies which inspire the most and not to forget she is one of the best dancers we ever had.

 

 

5 Immortal Characters Given Hrishikesh Mukherjee

5 Immortal Characters Given Hrishikesh Mukherjee

Yohaann Bhaargava
Follow me:

Yohaann Bhaargava

Head - Business Development at SCRIPTORS
Movie Buff. Yohaann is a film critic with Jagran Prakashan Limited. He has been associated with Print and TV media as a branding professional. Presently he is a screenwriter trying to bring in some good scripts up for Bollywood. At Scriptors he works as a writer and handles business development.
Yohaann Bhaargava
Follow me:

Latest posts by Yohaann Bhaargava (see all)

हृषिकेश मुख़र्जी के ९१वे जन्मदिन पर एक श्रद्धांजलि

हृषिकेश मुख़र्जी के ९१वे जन्मदिन पर एक श्रद्धांजलि

हृषिकेश मुखर्जी के फ़िल्मी रंगमंच के ज़िन्दगी से भरे पांच फ़िल्मी किरदार

हृषिकेश मुखर्जी, सिनेमा का वो दीपक हैं जो तब तक जलता रहेगा जब तक सिनेमा रहेगी. हृषिदा जादूगर थे, सिनेमा के वो जादूगर जिनका जादू आज भी हमको मंत्रमुग्ध करता है. चाहे वो अनारी हो या आनंद, गुड्डी हो या गोलमाल, नौकरी हो या नमक हराम, खूबसूरत हो या चुपके चुपके, अनुपमा हो या सत्यकाम, बावर्ची हो या मेमदीदी, हर एक फिल्म एक सौगात है हम आमजनता के लिए. ये कहानियां उन्होंने इसलिए सुनायीं क्योंकि ये हमारी कहानियां थीं. आज उनका ९१वां जन्मदिन है…आइये मिलते हैं हृषिदा की फिल्मों सबसे जीवंत और अनूठे किरदारों से….

आनंद मरा नहीं, आनंद मरते नहीं

आनंद मरा नहीं, आनंद मरते नहीं

आनंद

दिल्ली से जब आनंद सहगल अपना इलाज कराने मुंबई आता है तो मुंबई में वो एक डॉक्टर को छोड़कर किसी को भी नहीं जानता, बस इतना जानता है, वो अब ज्यादा जीने नहीं वाला. मुंबई आकर वो अपनी बची हुई ज़िन्दगी लोगों से दोस्ती करने में बिताता है. दोस्तों की ज़िन्दगी में खुशियाँ भरने में लगाता है, मरने से पहले यही उसका आखरी काम रह जाता है. वो अपने पेशे से मायूस डॉक्टर भास्कर को ज़िन्दगी का मतलब सिखाता है. वो डॉक्टर भास्कर को ये सिखाता है, की ज़िन्दगी लम्बी नहीं बड़ी होनी चाहिए.

अब आप ही बताइए, जब TO टू, DO डू, तो GO गू क्यों नहीं....

अब आप ही बताइए, जब TO टू, DO डू, तो GO गू क्यों नहीं….

प्रोफेसर परिमल त्रिपाठी

धर्मेन्द्र ने कई शानदार फिल्में की हैं, पर वो अगर किसी एक किरदार के लिए हमेशा किलकारियों के साथ याद किये जाते हैं तो वो है प्रोफेसर परिमल त्रिपाठी, जो की उन्हें हृषिकेश मुखर्जी की फिल्म चुपके चुपके में मिला. फिल्म चुपके चुपके में प्रोफेसर परिमल त्रिपाठी का किरदार यक़ीनन बॉलीवुड के सबसे ज्यादा कॉमिक किरदारों में से है. प्रोफेसर त्रिपाठी के ‘जिज्जा जी‘, उनकी बीवी सुलेखा की नज़र में भगवान् हैं. जैसे एक मयान में दो तलवारें नहीं रह सकतीं वैसे ही एक मनमंदिर में दो भगवान् कैसे रहे. इसलिए बॉटनी के प्रोफेसर परिमल त्रिपाठी, पहुँच जाते हैं जीजा जी …के ‘जीवन में विश घोलने’… एक अत्यंत शुद्ध हिंदी बोलने वाला वाहनचालक यानी ड्राईवर बन के, फिर क्या है, जीजा जी की ज़िन्दगी नर्क हो जाती है और परिमल अपने मकसद में कामयाब हो जाता है.

ये सब तो हम 'निर्मल आनंद ' के लिए कर रहे हैं

ये सब तो हम ‘निर्मल आनंद ‘ के लिए कर रहे हैं

मंजू

मंजू का किरदार यक़ीनन हृषिकेश मुखर्जी द्वारा रचे गए सबसे आज़ाद ख़याल किरदारों में से एक था, मंजू अल्हड है, शरारती है, बेहद खुश मिजाज़ है और सूरत ही नहीं, दिल से भी बड़ी खूबसूरत है.फिल्म आनंद के आनंद और फिल्म खूबसूरत की मंजू में काफी समानताएं हैं, आनंद की तरह उसे भी दोस्त बनाने का बड़ा शौक है, दोनों ही मानते हैं, की ज़िन्दगी जितनी हंसी ख़ुशी में गुज़रे उतना अच्छा. दोनों ही मानते हैं, की समय की तलवार के साए में ज़िन्दगी नहीं कट सकती, पर ख़ुशी बांटते हुए ज़िन्दगी जीने से वो अपने लिए ही नहीं दूसरों के लिए भी गुलज़ार हो जाती है इतना ही नहीं  मंजू और आनंद दोनों को ही नियम तोड़ने का बड़ा शौक है, और दोनों ही ज़िन्दगी को अनमोल मानते हैं इसीलिए शायद आनंद हो या खूबसूरत,इन किरदारों के माध्यम से हृषिदा आपको ज़िन्दगी के पल पल को जीना सिखाते हैं. ज़िन्दगी जियो तो निर्मल आनंद के लिए, कहती है मंजू.

 

इट्स सो सिंपल तो बि हैप्पी, बट इट्स सो डिफिकल्ट तो बी सिंपल

इट्स सो सिंपल तो बि हैप्पी, बट इट्स सो डिफिकल्ट तो बी सिंपल

रघु

रघु एक बावर्ची है, पर शान्ति निवास के अशांत निवासियों के लिए रघु फ़रिश्ता है. जब वो इस घर में आता है तो देखता है की परिवार रुपी माला के सभी फूल बिखरे हुए हैं, और मुर्जाये जा रहे हैं. वो धीरे धीरे इन्हें एक माला में पिरोता है और फिर चुप चाप निकल जाता है एक दुसरे अशांत घर की तलाश में जहां उसकी ज़रुरत है. आज के समय में कोई भी सुपरस्टार एक खाकी निक्कर वाला बावर्ची बनने को भले ही न राज़ी हो पर उस समय रघु को सुपरस्टार राजेश खन्ना ने शान के साथ अदा किया. ज़िन्दगी में खुशियाँ ज़रूरी हैं, हर कोई अपनी ज़िन्दगी खुश रहने के लिए ही जीता है, ये बावर्ची अनूठा है, ये बावर्ची झूठा है, ये बावर्ची भी आनंद, परिमल और मंजू की तरह बड़ी बकबक करता है पर इसकी बक बक में भी ज़िन्दगी की कई सीखें छुपी हुई हैं. ये बावर्ची बताता है की जीवन की खुशियाँ एक दुसरे को मुस्कुराने में ही हासिल की जा सकती हैं.

जिसका नाम भवानी शंकर हो वो तो पैदा होते ही बुद्धा हो हया समझो

जिसका नाम भवानी शंकर हो वो तो पैदा होते ही बुद्धा हो हया समझो

रामप्रसाद और लक्ष्मनप्रसाद

याद आया कौन सी फिल्म की बात की जा रही है? बात की जा रही है बॉलीवुड की सबसे शानदार कोमेडिज़ में से एक गोलमाल की. फिल्म गोलमाल का रामप्रसाद मुसीबत का मारा है, उसको नौकरी की सख्त ज़रूरत है पर नौकरी देने वाले भवानी शंकर अजीब किस्म के इंसान हैं, जो इंसान को उसकी मूंछ और पहनावे से आंकते हैं, रामप्रसाद पहनावा तो बदल लेता है पर साथ ही नौकरी बचने के लिए उसको अपने जुड़वाँ भाई लक्षमणप्रसाद होने का नाटक भी करना पड़ता है. दोनों को मिलाकर कर अब उसका बस एक ही मकसद है, भवानीशंकर को ये सिखाना की किताब का कवर देखकर ये नहीं बताया जा सकता की उसके अन्दर क्या लिखा है. रामप्रसाद भी आनंद, रघु, परिमल और मंजू की तरह मस्त मौला है, नौटंकी करना उसे अच्छा लगता है और वो भी इन सब की तरह नियम और कायदे कानून में बंधी हुई ज़िन्दगी के खिलाफ है. हृषिदा द्वारा उकेरा गया रामप्रसाद उर्फ़ लक्ष्मनप्रसाद भारतीय सिनेमा पटल का वो किरदार है जो सदियों तक जिंदा रहेगा.

 

 

Some Less Known Incidents About Lata Mangeshkar

Some Less Known Incidents About Lata Mangeshkar

Prakash Khare

Prakash Khare

Retired Government Officer, Big Time Indian Cinema Fan, Old Film Encyclopedia
Prakash Khare

Latest posts by Prakash Khare (see all)

लता मंगेशकर के दिलचस्प किस्से

लता और सचिन देव बर्मन :

१९५७ तक लता मंगेशकर पार्श्व गायन सचिन देव बर्मन संगीत निर्देशक के रूप में अपना सिक्का जमा चुके थे और दोनों ने सज़ा ,टैक्सी ड्राइवर ,देवदास जैसी फिल्मों में एक साथ काम करते हुए गजब के गीतों का सृजन किया था। लेकिन १९५७ में फिल्म पेइंग गेस्ट के गानेचाँद फिर निकलाके बाद लगभग पांच साल तक एक साथ काम नहीं किया। बात क्या हुई किसी को उस समय पता नहीं चला। दरअसल यह केवल अहम् का टकराव था। काफी बाद में लता मंगेशकर ने एक इंटरव्यू में कहा की सचिन दा  ने किसी से यह कि कह  दिया की लता  को लता किसने बनाया। इससे लता के स्वाभिमान को ठेस पहुंची और दोनों में बात चीत ही बंद हो गयी. वर्षों तक यह सिलसिला चला और इस दौरान सचिन दा ने लता के बगैर बेहतरीन संगीत का सृजन किया तो लता ने सचिन दा के बगैर ही नयी उचाईयों को प्राप्त किया।अंततः सचिन दा के बेटे पंचम की मध्यथता से यह डेडलॉक टूटा और फिल्म बंदिनी के गीतमोरा गोरा रंग लई लेके साथ ही इस संगीतमय सफर की दुबारा शुरुआत हुई।



लता और मुहम्मद रफ़ी :

यह दरअसल ६० के दशक के शुरआती सालों की बात है। लता मंगेशकर चाहती थी की गाने के मेहनताने के साथ साथ गानों  की बिक्री से प्राप्त आय से उनको रॉयल्टी भी मिले। उन्होंने यह बात रफ़ी साहब से कही क्योंकि वह जानती थी की रफ़ी साहेब सबसे बड़े पुरुष पार्श्व गायक हैं और अगर वो उनका साथ देते हैं तो निर्माताओं को झुकना पड़  जाएगा।लेकिन रफ़ी साहेब सामान्यता एक भद्र पुरुष माने जाते थे उन्होनें इस बात को मानने से इनकार कर दिया। उनका मन्ना था की जब हमको एक बार हमारे गाने का पारिश्रमिक मिल गया तो फिर रॉयल्टी  का कोई औचित्य नहीं है क्योंकि पारिश्रमिक तो हमें मिलता ही है चाहे गाने भले ही लोकप्रिय हो पाएं। इस बात पर दोनों में तकरार हो गयी और दोनों ने एक साथ नहीं गाने का फैसला ले लिया। यह सिलसिला भी लगभग पांच सालों तक चला। इस दौरान दोनों ही एक ही फिल्म में अलग अलग सोलो गीत गाते रहे लेकिन डुएट साथ नहीं गाये। लाता मंगेशकर ने युगल गीत जहाँ मुकेश महेंद्र कपूर किशोर कुमार के साथ गाये तो रफ़ी ने युगल गीत सुमन कल्याणपुर आशा भोसले शारदा के साथ गाये। यह पहला टकराव था जिससे लता को वास्तविक नुक्सान हुआ क्योंकि ज़्यादातर संगीत कार युगल गीतों में पुरुष आवाज़ रफ़ी साहेब की ही रखना चाहते थे इससे आशा भोसले सुमन कल्याणपुर को काफी फायदा मिला और शारदा जैसी नयी पार्श्व गायिका का उदय  हुआ. अंततः संगीतकार जय किशन की मध्यस्थता से तह झगड़ा सुलझा। काफी बाद में रफ़ी साहेब की मृत्यु के  बाद लता मंगेशकर ने एक इंटरव्यू में कहा की जय किशन के कहने पर रफ़ी साहेब ने उन्हें लिखित में एक माफ़ी नामा भेजा था जिससे सुलह हुई।  इस इंटरव्यू के बाद रफ़ी साहेब के पुत्र शाहिद ने यह आरोप लगाया की लता जी रफ़ी साहेब की मृत्यु के बाद झूठ बोल रही हैं।  रफ़ी साहेब ने ऐसा कोई माफीनामा नहीं भेज। और अगर भेज है तो उसे सार्वजनिक किया जाए।



ए मेरे वतन के लोगो

दरअसल चीन युद्ध के बाद २६ जनवरी को दिल्ली में होने वाले गणतंत्र दिवस के कार्यक्रमों में फिल्म जगत चार संगीतकारों नौशाद ,शंकर जय किशन ,मदन मोहन व सी रामचन्द्र को आमंत्रित किया गया थे की वे नेशनल  स्टेडियम में पंडित जवाहरलाल नेहरू के समक्ष देश भक्ति पूर्ण गीतों का गायन करें। इनमे से नौशाद ,शंकर जय किशन व मदन मोहन के पास उनकी फिल्मों से पूर्व में ही सृजित देश भक्ति’पूर्ण गीत थे किन्तु सी रामचंद्र के पास ऐसा कोई गीत नहीं था। इसलिए उन्होंने कवि  प्रदीप से आग्रह किया और इस तरह ऐ मेरे वतन के लोगो का सृजन हुआ। चूँकि उस समय सी राम चंद्र व लता मंगेशकर में किसी बात को लेकर अनबन चल रही थी तो सी रामचंद्र ने आशा भोसले से संपर्क कर उनको इस बात के लिए तैयार किया और गीत की रेहर्सल  भी शुरू हो गयी। लेकिन कवी प्रदीप को लगा की केवल लाता ही इस गीत के साथ न्याय कर सकती हैं। उन्होंने लता मंगेशकर से प्रथक से संपर्क किया व अंततः उन्हें इसके लिए मना  लिया। जब उन्होंने ये बात सी रामचंद्र को बताई तो वे असमंजस में पड़ गए। खैर काफी जद्दोजहद के बात यह तय हुआ की लता व आशा दोनों ही इस गीत पर दिल्ली में परफॉर्म करेंगी और तदनुसार रेहर्सल शुरू हो गयी। लेकिन जैसे ही यह तिथि निकट आने लगी लता मंगेशकर ने कहा की सिर्फ वे ही दिल्ली जाकर परफॉर्म करने वाली हैं आशा दिल्ली नहीं जा रही है। जब सी राम चंद्र ने आशा भोसले से संपर्क किया तो उन्होंने कहा की दीदी उन्हें दिल्ली नहीं जाने देना चाहती। ऐन वक़्त पर आशा भोसले ने इस कार्यक्रम से नाम वापस ले लिया और केवल लता मंगेशकर ने दिल्ली में परफॉर्म किया। आगे का इतिहास सबको पता है लेकिन परदे के पीछे क्या हुआ यह अब भी एक रहस्य है।

नई उभरती हुई महिला पार्श्व गायिकाओं के सम्बन्ध में लता मंगेशकर के रवैये पर हमेशा प्रश्न चिन्ह रहा है। यहाँ तक की छोटी बहिन आशा भोसले ने भी एक इंटरव्यू के दौरान यह कह डाला की यदि लता दीदी ने उनकी थोड़ी बहुत मदद की होती तो उन्हें अपना मुकाम हासिल करने के लिए इतना संघर्ष नहीं करना पड़ता। ऐ मेरे वतन के लोगो से सम्बंधित घटना इस तथ्य को थोड़ा बहुत तथ्यपरक बनाती है। इसके अलावा भी अन्य पार्श्व गायिकाओं जैसे सुमनकल्याणपुर,शारदा  वाणी जयराम, हेमलता ,सुलक्षणा पंडित ,रूना  लैला आदि भी लता मंगेशकर के इस रवैये की कभी न कभी शिकार हुई हैं। और उनके विभिन्न साक्षात्कारों में उनकी यह पीड़ा कहीं न कहीं परिलक्षित हुई है। लेकिन 1970 में लता जी ने स्वयं दुसरो को आगे बढ़ने के लिए खुद फ़िल्मफ़ेअर अवार्ड लेने से मन कर दिया था और उनका आखिरी फ़िल्मफ़ेअर  फिल्म दो रास्ते के गीत बिंदिया चमकेगी से मिला था हालाँकि यह तो नहीं कहा जा सकता की ये सभी गायक लता मंगेशकर के समान प्रतिभावान थे लेकिन लाता मंगेशकर रुपी वटवृक्ष के नीचे  इन नयी प्रतिभाओं को फूलने फलने के पर्याप्त अवसर नहीं मिले इसमें किसी को कोई शंका नहीं हो सकती।

लता  और शंकर

इसके अतिरिक्त जिन संगीतकारों ने नयी पार्श्व गायिकाओं को अवसर देने की कोशिश की उनके साथ भी लता मंगेशकर का रवैया तिरिस्कारपूर्ण रहा। ६० के दशक के उत्तराद्ध में संगीतकार शंकर जय किशन की जोड़ी में कुछ दरार पैदा हुई क्योंकि लाता मंगेशकर के रवैये से परेशान होक संगीतकार शंकर ने नयी पार्श्व गायिका शारदा को बढ़ावा देना प्रारम्भ किया और कई फिल्मों जैसे सूरज ,अराउंड दी  वर्ल्ड ,गुनाहों का देवता आदि में लता की जगह शारदा से पार्श्व गायन करवाया। इससे चिढ़कर लाता मंगेशकर ने शंकर जय किशन के संगीत निर्देशन में गाना बंद कर दिया। इसी कारण से मेरा नाम जोकर जैसी महत्वाकांक्षी फिल्म में भी लता मंगेशकर का कोई गीत नहीं था। इसी बीच जय किशन जी का अवसान हो गया। शारदा इतने बैकअप के बाद भी कोई स्थायी प्रभाव उत्पन्न नहीं कर पायीं और शंकर जय किशन के संगीत का जादू भी काम होने लगा। अंततः मोहम्मद रफ़ी की मध्यस्थता से यह अवरोध दूर हुआ और दोनों ने फिर से फिल्म सन्यासी में एक साथ काम किया और इसका संगीत पुनः लोकप्रिय हुआ।



Happy Birthday Pancham Da

Happy Birthday Pancham Da

Yohaann Bhaargava
Follow me:

Yohaann Bhaargava

Head - Business Development at SCRIPTORS
Movie Buff. Yohaann is a film critic with Jagran Prakashan Limited. He has been associated with Print and TV media as a branding professional. Presently he is a screenwriter trying to bring in some good scripts up for Bollywood. At Scriptors he works as a writer and handles business development.
Yohaann Bhaargava
Follow me:

Latest posts by Yohaann Bhaargava (see all)

 

 

 

#BestInGenre #PanchamDa

वो ‘पंचम’ सुर का महारथी

आज हमारे प्यारे ‘पंचम दा’ का जन्मदिन हैं, आज ही के दिन (२७ जून १९३९ ) आर डी बर्मन यानी हम सब के चहेते पंचम का जन्म कोलकाता में हुआ था. कहते हैं कि सचिन देव बर्मन के घर पैदा हुए राहुल बचपन में पंचम सुर में रोते थे, प्यार से उनका नाम पंचम रख दिया गया. फिल्म संगीत के शाही खानदान के वारिस पंचम ने अपनी आखरी सांसें भी संगीत की दुनिया में लीं. हम उनके गानों को रोज़ ही सुनते हैं. आज भी वो गीत बासी नहीं लगते, आज भी वो गीत हमारी रूह को थिरकाते हैं, आज भी वो गीत हमारी आत्मा में कहीं रचे बसे हुए हैं. पेश करते हैं पंचम के 10 नायाब गीत.

 

१. तेरे बिना ज़िन्दगी से शिकवा तो नहीं (फिल्म : आंधी)

 

 

२. मुसाफिर हूँ यारों, न घर है न ठिकाना (फिल्म : परिचय )

 

३. चेहरा है या चाँद खिला (फिल्म : सागर )

 

४. हमें तुमसे प्यार कितना ये हम नहीं जानते (फिल्म : कुदरत )

 

५. गुम है किसी के प्यार में (फिल्म : रामपुर का लक्ष्मण )

 

६. ओ माझी रे ( फिल्म: खुशबू )

 

७. मेरा कुछ सामान ( फिल्म : इजाज़त )

 

८. ओ मेरे सोना रे ( फिल्म : तीसरी मंजिल )

 

९. हमें और जीने की चाहत न होती , अगर तुम न होते (फिल्म : अगर तुम न होते )

 

१0. ओ मेरे दिल के चैन, चैन आये मेरे दिल को दुआ कीजिये (फिल्म : मेरे जीवन साथी )